कैप्टन का पॉलिटीकल कॅरियर संकट में

चंडीगढ़।  पंजाब विधानसभा चुनाव में मिली करारी हार से कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह का पॉलिटीकल कॅरियर खतरे में पड़ गया है। शिरोमणी अकाली दल-भाजपा गठबंधन की ऐतिहासिक जीत और कांग्रेस की हार से सबसे पहले उंगलियां भी अमरिंदर सिंह पर ही उठ रही हैं। पार्टी की अप्रत्याशित हार के लिए उन्हें जिम्मेदार माना जा रहा है और खुद अमरिंदर ने भी हार की जिम्मेदारी स्वीकार करते हुए इस्तीफे की पेशकश की है। सूत्रों की माने तो उनका इस्तीफा मंजूर किया जाएगा। अगर एसा हुआ तो यह अमरिंदर के राजनीतिक करियर के अंत की शुरुआत होगी।

कांग्रेस आलाकमान ने पंजाब चुनोह्ल में कैप्टन अमरिंदर सिंह पर भरोसा किया था। परंपरा को दरकिनार कर एक जनसभा में राहुल गांधी ने उन्हें कांग्रेस की ओर से मुख्यमंत्री घोषित कर दिया। टिकट से लेकर चुनाव प्रचार तक अमरिंदर सिंह को पूरी आजादी दी गई थी। पिछली लोकसभा में हारने वाले उनके बेटे रणिंदर को भी टिकट दिया गया जो एक बार फिर हार गए।

कैप्टन पार्टी हाइकमान के भरोसे पर खरे नहीं उतर सके। टिकट आबंटन के बाद उठे बबाल को वह संभालने में नाकाम रहे कैप्टन अंत तक बागियों को मनाने में लगे रहे मगर कोई सफलता नहीं मिली। चुनाव  में कांग्रेस के दो दर्जन से अधिक बागी प्रत्याशी मैदान में डटे रहे। जो हार का मुख्य कारण बने।

कांग्रेस की हार का दूसरा बड़ा कारण यह था कि कैप्टन वोटरों का मूड़ भांपने में नाकाम रहे। अमरिंदर सिंह उन तमाम लोगों में से थे जिनका मानना था कि पंजाब का वोटर हमेशा बदलाव के लिए वोट करता है। यही गलतफहमी उन्हें चुनोह्ल में भारी पड़ गई। अकाली दल से नाराज जनता कांग्रेस की बजाए नेह्लगठित पीपीपी के साथ गई। पीपीपी को चुनोह्ल में पांच फीसदी वोट मिले। जो कांग्रेस की किस्मत बना सकते थे। इसके आलावा  कैप्टन डेरा मुखिया का भी अपने पक्ष में करने में नाकाम रहे। डेरा ने किसी पार्टी की बजाए उम्मीदवारों को समर्थन दिया।

कैप्टन के नेतृत्ेह्ल में लगातार मिली इस दूसरी हार से पार्टी के भीतर उनके ेिह्लरोधी एक बार फिर सक्रिय हो गए हैं। धीमें स्वरों में ही सही, लेकिन पार्टी नेता अमरिंदर के काम करने के तरीके पर सवाल उठा रहे है।

आलाकमान की नाराजगी और वीरोधियों की सक्रियता से अब कैप्टन अमरिंदर सिंह का राजनीतिक कॅरियर ढलान पर आ गया है। शायद इसका अहसास अमरिंदर सिंह को भी हो गया है। इसलिए चुनोह्ल में मिली हार के बाद उन्होंने

कहा कि मैं कुछ दिनों में 7० वर्ष का हो रहा हूं और अगले पांच सालों में 7५ का, ये वो उम्र है जब रिटायर हो जाना चाहिए।

ASHOK AGGARWAL TO CONTINUE AS ADVOCATE GENERAL OF PUNJAB

CHANDIGARH: The Punjab Government has decided that Mr. Ashok Aggarwal would continue as Advocate General of Punjab. Mr. Aggarwal has consented to continue on this assignment.

This was disclosed by an official spokesman.

14 दिन के अंदर देनी होगा खाद्य पदार्थों के सैम्पलों की टैस्ट रिपोर्ट

हरियाणा फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) ने अब खाद्य पदार्थों के सैम्पलों की टैस्ट रिपोर्ट 14 दिन के अंदर देनी अनिवार्य की गई है।

इस बारे मंे जानकारी आज फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) के आयुक्त सी आर राणा ने गुड़गांव मंे दी।

उन्होंने कहा कि गुड़गांव जैसे बड़े शहरों में एफडीए द्वारा मोबाईल टैस्टिंग लैब उपलब्ध करवाने पर विचार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आम आदमी को यदि खाने की वस्तु में गड़बड़ नजर आती है तो वह खाद्य सुरक्षा अधिकारी को सूचित करके उस वस्तु का सैम्पल ले सकता है परंतु झूठी शिकायत करने वाले व्यक्ति पर 50 हजार रूपए जुर्माने का भी अधिनियम में प्रावधान किया गया है ताकि कोई भी व्यक्ति अनावश्यक रूप से किसी दुकानदार को परेशान ना करे।

उन्होंने बताया कि वर्तमान में खाद्य पदार्थों के सैम्पलों की जांच के लिए पंचकुला तथा करनाल मंे दो प्रयोगशालाएं हैं। इनके अलावा तीन प्राईवेट प्रयोगशालाओं को भी अधिकृत किया हुआ है। उन्होंने यह भी बताया कि 5 अगस्त, 2011 से लागू किए गए इस अधिनियम में खाद्य पदार्थों के 12 लाख रूपए वार्षिक से कम व्यापार वाले प्रतिष्ठान के लिए पंजीकरण करवाना अनिवार्य है और इससे अधिक व्यापार करने वाले प्रतिष्ठान को लाईसैंस लेना पड़ेगा।  राणा ने बताया कि पंजीकरण अथवा लाईसैंस प्राप्त करने के लिए अन्तिम तिथि 4 अगस्त, 2012 निर्धारित की गई है। उसके बाद जिन प्रतिष्ठानों या दुकानदारों के पास लाईसैंस या पंजीकरण प्रमाण-पत्र नहीं होगा तो यह समझा जाएगा कि वे गैर-कानूनी ढं़ग से अपना कारोबार चला रहे हैं जिसके लिए उन पर जुर्माना हो सकता है।

राणा ने कहा कि इस अधिनियम के दायरे मंे शराब की बार भी आती हैं। उन्होंने बताया कि सिविल सर्जन को डेजिग्नेट ऑफिसर नियुक्त किया गया है। इस अधिनियम में मामलों पर फैसला देने के लिए अतिरिक्त उपायुक्त को अधिकृत किया गया है जिन्हें 90 दिन में मामले पर अपना फैसला देना होगा।

उन्होंने कहा कि हरियाणा फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) अपनी खुद की वैबसाइट बना रहा है, जिसके बन जाने के बाद उम्मीदवार अपना आवेदन ऑनलाइन भी भर सकता है। उन्होंने कहा कि खाद्य व्यापारियों के लिए एक हैल्पलाइन भी जल्द शुरू की जाएगी। उन्होंने कहा कि हर जिले में एक खाद्य सुरक्षा अधिकारी लगाया गया है।

कबीर पुरस्कार आवेदन पत्र आमंत्रित

भारत सरकार के गृह मंत्रालय  द्वारा कबीर पुरस्कार 2012 के लिए योग्य पात्रों से आवेदन पत्र आमंत्रित किए गए हैं। इच्छुक और योग्य आवेदक 10 अप्रैल तक इस पुरस्कार के लिए संबंधित उपायुक्त कार्यालय में आवेदन जमा करवा सकते हैं।

इस बारे में जानकारी देते हुए एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि साम्प्रदायिक सदभावाना और राष्ट्रीय एकता के क्षेत्र में बेहतर सेवाओं के लिए दिए जाने वाले इस पुरस्कार में 3 अलग-अलग ग्रेड के तहत तीन पुरस्कार दिए जाते हैं। प्रथम पुरस्कार के लिए 2 लाख रूपए, द्वितीय ग्रेड के लिए 1 लाख रूपए तथा तृतीय ग्रेड के लिए 50 हजार रूपए की नगद राशि व प्रशस्ति पत्र देने का प्रावधान है। इस पुरस्कार का मुख्य उद्देश्य समाज में धार्मिक, जातिगत विवादों को रोकने के लिए लोगों की धारणा में परिवर्तन करने तथा जातिगत और धार्मिक विवादों से होने वाले नुकसान को रोकना है।

यह पुरस्कार प्रतिवर्ष 2 अक्तूबर को गांधी जयंती के अवसर पर प्रदान किए जाते हैं। उन्होंने कहा कि इच्छुक व्यक्ति अपने आवेदन पत्र और पुरस्कार की पुष्टि के लिए आवश्यक दस्तावेज 10 अप्रैल तक उनके कार्यालय में जमा करवा दें। इस तिथि के उपरांत प्राप्त होने वाले किसी भी आवेदन पर विचार नही किया जाएगा।

जुआ खेलते पांच लोग काबू

 हरियाणा पुलिस ने जिला सिरसा में गश्त के दौरान सार्वजनिक स्थल पर जुआ खेलते मंडी कालांवाली से पांच लोगांे को काबू किया है। पुलिस ने मौका से 3200 रुपये की जुआ राशि व ताश कब्जा में लेकर आरोपियों के विरुद्ध थाना कालांवाली में मामला दर्ज कर दिया है। पकड़े गए लोगों की पहचान रामकुमार पुत्र गोर्धन राम, अजायब सिंह पुत्र जंग सिंह निवासी माखा, पुरुषोत्तम पुत्र रामचन्द्र निवासी मंडी कालांवाली, सुखदेव सिंह पुत्र बंत सिंह निवासी गांव कालांवाली व पप्पु राम पुत्र रणजीत सिंह निवासी कालांवाली के रूप में हुई है।

        इस बारे में जानकारी देते हुए पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि एक अन्य घटना में पुलिस ने गश्त के दौरान सार्वजनिक स्थल पर सट्टा खाईवाली करने के आरोप में एक व्यक्ति को 490 रुपये की सट्टा राशि के साथ रानियां से काबू किया। पकड़े गए व्यक्ति की पहचान राकेश कुमार पुत्र वेदप्रकाश निवासी वार्ड नंबर 13 रानियां के रूप मंे हुई है। वहीं  पुलिस ने सार्वजनिक स्थल पर सट्टा खाईवाली करने के आरोप में महेन्द्र सिंह पुत्र बलवीर सिंह निवासी रोहन को 140 रुपये की सट्टा राशि के साथ काबू किया।   पुलिस ने बाला सिंह पुत्र निरंजन सिंह निवासी खोखर को सात बोतल देसी शराब के साथ गांव खोखर से काबू किया। पुलिस ने पाला राम पुत्र भूरा सिंह निवासी लकड़ांवाली को सार्वजनिक स्थल पर सट्टा खाईवाली करने के आरोप में 405 रुपये की सट्टा राशि के साथ काबू किया।

उन्होंने बताया कि पुलिस ने सार्वजनिक स्थल पर झगड़ा कर शांति भंग करने के आरोप में दो लोगांे को भारत नगर सिरसा क्षेत्र से काबू किया। पकड़े गए आरोपियों की पहचान राजेश कुमार पुत्र प्रेम नाथ व सुनील कुमार पुत्र कासिव प्रसाद निवासीयान कीर्तिनगर के रूप में हुई है। दोनों आरोपियांे के विरुद्ध थाना शहर सिरसा में मामला दर्ज किया गया है।

11 हजार रुपए कन्या दान देगी हरियाणा सरकार

हरियाणा सरकार ढाई एकड़ या इससे कम भूमि तथा एक लाख रुपए वार्षिक से कम आय वाले परिवारों की लड़कियों की शादियों में शगुन के तौर पर 11 हजार रुपए कन्या दान के तौर पर देगी।

एक सरकारी प्रवक्ता ने यह जानकारी देते हुए बताया कि इससे पहले यह योजना सिर्फ बीपीएल परिवारों के लिए ही लागू थी। हालांकि बीपीएल परिवारों की लड़कियों की शादी के लिए इंदिरा गांधी प्रियदर्शनी विवाह शगुन योजना के तौर पर अनुसूचित जाति, विमुक्त जाति, टपरीवास जाति के लोगों तथा सभी वर्गों की विधवाओं की लड़कियों की शादी में शगुन के तौर पर 31 हजार रुपए तथा अन्य वर्गों के लोगों को लड़की की शादी हेतु 11 हजार रूपए की अनुदान राशि शगुन के रूप में दी जाती हैं।

उन्होंने बताया कि सरकार ने अब योजना में संशोधन करते हुए ढाई एकड़ तक भूमि वाले तथा एक लाख रुपए तक वार्षिक आमदनी वाले परिवारों को भी इस योजना में शामिल किया गया है। इस योजना के तहत लाभपात्र प्रार्थी हरियाणा राज्य का स्थाई निवासी हो और उसका नाम बीपीएल सूची में दर्ज हो। वहीं ढाई एकड़ भूमि से कम तथा एक लाख रुपए तक आमदनी वाले परिवारों के लिए बीपीएल की पात्रता आवश्यक नहीं है। उन्होेंने बताया कि इस योजना के तहत एक व्यक्ति की दो लड़कियों की शादी तक ही अनुदान दिया जाता है।

प्रवक्ता ने बताया कि विधवा/तलाकशुदा महिला स्वयं के पुनर्विवाह हेतु भी इस योजना के तहत अनुदान प्राप्त कर सकती है, बशर्ते वह योजना की अन्य शर्तें पूरी करती हो और उसने अपनी शादी हेतु पहले अनुदान प्राप्त न किया हो। उन्होंने बताया कि योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए प्रार्थी ने यदि किसी कारणवश शादी की तिथि से पूर्व प्रतिवेदन न दिया हो तो कारण स्पष्ट करते हुए शादी के एक मास बाद तक भी आवेदन दिया जा सकता हैं। उन्होंने बताया कि इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए आवेदन पत्र जिला/तहसील कल्याण अधिकारी के कार्यालय से मुफ्त प्राप्त करके तथा उसे पूर्ण रूप से भर कर सभी आवश्यक दस्तावेजों जैसे लड़की की आयु का प्रमाण-पत्र, जाति प्रमाण-पत्र, बीपीएल सूची एवं सरपंच/पटवारी की रिपोर्ट व शादी के कार्ड सहित उक्त कार्यालय में ही जमा करवाए जा सकते है। इस संबंध में अधिक जानकारी के लिए जिला/तहसील कल्याण अधिकारी से संपर्क किया जा सकता है।

हायर किए जाएंगे ट्रैक्टर

चंडीगढ-हरियाणा के कृषि विभाग द्वारा किसानों के खेत लेवलिंग के लिए ट्रैक्टर हायर किए जाएंगे। इसके लिए 50 हॉर्स पॉवर या अधिक पॉवर के टै्रक्टर ही अनुबंधित किए जाएंगे। इस बारे में जानकारी देते हुए कृषि विभाग के एक प्रवक्ता ने बताया कि यह टै्रक्टर सहायक कृषि अभियंता अम्बाला के कम्पनी बाग कार्यालय में अनुबंधित किए जाएंगे और ट्रैक्टर का अनुबंध 6 मास के लिए किया जाएगा। इन ट्रैक्टरों से लेजर लेवलर चलाने का कार्य लिया जाएगा ताकि सस्ती दरों पर किसानांे की भूमि को समतल किया जा सके। उन्होंने कहा कि अनुबंध पर ट्रैक्टर उपलब्ध करवाने के इच्छुक किसान 26 मार्च तक सहायक कृषि अभियंता अम्बाला के कार्यालय में अपने आवेदन प्रस्तुत कर सकते हैं।

उन्होंने बताया कि इस सम्बन्ध में विस्तृत जानकारी के लिए 22 मार्च तक किसी भी कार्य दिवस में उक्त कार्यालय में सम्पर्क किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि 26 मार्च के उपरांत प्राप्त होने वाले किसी भी आवेदन पर विचार नही किया जाएगा।

 

नाभा हाऊस में बनेगा हरियाणा सांस्कृतिक केन्द्र

हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने कहा है कि हरियाणा की प्राचीन समृद्व सांस्कृतिक विरासत से रूबरू करवाने के लिए  दिल्ली में  मंडी  हाऊस के निकट स्थित नाभा हाऊस में हरियाणा सांस्कृतिक केन्द्र का निर्माण किया जायेगा। उन्होंने कहा कि लगभग तीन एकड़ क्षेत्रफल में बनने वाले इस  पांच- मंजिला हरियाणा सांस्कृतिक केन्द्र में ग्रैंड लॉऊंज,सम्मेलन स्थल, बंैक्वैट हाल, बिजनेस सेंटर, ई-लाईब्रेरी, सभागार, पार्किंग आदि की सुविधायें होंगी और इसके निर्माण पर 60 करोड़ रूपये की लागत आने का अनुमान है।

हुड्डा ने यह बात आज दिल्ली के शालीमार बाग में  हरियाणा सरकार के आवासीय परिसर के उद्घाटन अवसर पर कही। इस मौके पर मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री छतर सिंह, लोक निर्र्माण विभाग (भवन एवं सड़कें) के वित्तायुक्त एवं प्रधान सचिव श्री एस.सी.चौधरी, हरियाणा के प्रधान स्थानीय आयुक्त श्री पी.के. महापात्रा, लोक निर्र्माण विभाग(भवन एवं सड़कें) के प्रमृुख अभियंता श्री महेश कुमार,हरियाणा एसोसियेशन के अध्यक्ष श्री मनमोहन गोटेवाला सहित अनेक गणमान्य व्यक्ति मौजूद थे।

उन्होंने कहा कि  तीन एकड़ से अधिक क्षेत्रफल में निर्मित इस आवासीय परिसर में हरियाणा सरकार के  सभी श्रेणियों के कर्मचारियों के लिए 200 फलैट बनाये गये हैं और इनके निर्माण पर 25 करोड़ 33 लाख रूपये की लागत आई है।

उल्लेखनीय है कि इस आवासीय परिसर को  भूकम्परोधी  बनाया गया है और  इसमें अग्निशमन उपकरण भी लगाये गये हैं। इसके साथ ही बिजली की सुचारू आपूर्ति के लिए परिसर में एक बिजली सब-स्टेशन भी बनाया गया है।  परिसर में 2500 वर्ग फुट क्षेत्र में एक सामुदायिक हाल  बनाया गया है और  पार्किग की भी समुचित व्यवस्था की गई   है।  इसके साथ ही परिसर में वर्षा जल संचयन प्रणाली का भी प्रावधान किया गया है।

 


पूरे गांेह्ल में चल रही चोरी की बाइकें

चोर को पकड़ऩे गए लेकिन मिली सिर्फ ेह्लाइकें

यमुनानगर।
यमुनानगर में ऐसा गांव है जिसमें ज्यादातर मोटर साइकिलें चोरी की हैं। हैरानी हुई न। जिले का कस्बा छछरौली है जहां के गांव कोटडा में एक मोस्ट वांटिड चोर की तलाश में पुलिस ने दबिश दी। मोस्ट वांटिड चोर तो पुलिस की गिरफत में नही आया लेकिन पुलिस ने एक चोर को गिरफतार किया। गांव के घर घर की तलाशी के बाद आधा दर्जन से अधिक मोटर साइकिलें पुलिस ने बरामद की । हालांकि पुलिस रेड की सूचना मिलते ही गांव के ज्यादातर लोग चोरी की मोटर साइकिलों को लेकर गांव से बाहर जा चुके थे। पुलिस को तलाश थी मोस्ट वांटिड चोर सत्तार की । तलाश में पुलिस ने कई बार उस गांव में रेड की । लेकिन शातिर सत्तार पुलिस के हाथ नही लगा । पुलिस को गुप्त सूचना मिली कि सत्तार अपने गांव चोरी के वाहन सहित आया है । भारी पुलिस बल गांव में रेड करने के लिए निकल पड़ा । लेकिन गांव नदियों के बीच में होने के कारण पुलिस की एक गाड़ी नदी में फंस गई ।उसी का फायदा उठाते गांव से सत्तार गायब हो गया । उसके कई साथी भी गांव से भागने में कामयाब हो गए । आनन फानन में पुलिस ने गांव में नाकेबंदी की । पूरे गांव को घेर लिया । गांव के घर घर जाकर तलाशी ली । हैरानी की बात यह रहीकि गांव में इक्का दुक्का ही आदमी नजर आया। महिलाओं के सिवाए गांव में व्यक्ति बहुत कम नजर आए ।पुलिस अपने साथ महिला पुलिस को लेकर पहुंची थी । महिला पुलिस के साथ गांव के घर घर में जाकर तलाशी ली । घरों से चोरी की मोटर साइकिलें बरामद की । जांच अधिकारी पवन कुमार ने बतायाकि पुलिस ने जिस भी घर में तलाशी ली वहां चोरी की मोटर साइकिल सामने बरामद हुर्इं। हालांकि ज्यादातर मोटर साइकिलें पुलिस के आने से पहले ही गांव से बाहर जा चुकी थी। पुलिस ने चोरी की मोटर साइकिलों को ढूंढ निकाला । पुलिस ने एक चोर को भी गिरफतार किया। पुलिस को यह उम्मीद थी कि सत्तार के पकडे जाते ही इस गांव से सैकडों मोटर साइकिले हांसिल हो जाएंगी। लेकिन सत्तार के भागने के बाद पुलिस उम्मीद है कि बहुत जल्द पकड़ लेगी । अधिकारी पवन कुमार ने बतायाकि सत्तार वह शातिर चोर है जिस की हरियाणा के ज्यादातर जिलों की पुलिस को तलाश है । उसे पकडने के लिए पुलिस ने इनाम की राशि भी रखी है । एनसीआर में भी सत्तार को मोस्ट वांटिड घोषित किया है । बाइट जांच अधिकारी पवन कुमार ने बतायाकि पुलिस उसके एक साथी व गांव से चोरी की मोटर साइकिलें बरामद करने के बाद बाउम्मीद है कि जल्द ही सत्तार पुलिस की गिरफत में होगा ।

 

नेह्लजोत कौर सिद्धू बनेंगी सीपीएस

भाजपा के तीन ेिह्लधायक बनेंगे सीपीएस
चंडीगढ़।
पूेह्र्ल क्रिकेटर और सांसद नेह्लजोत सिंह सिद्धू की पत्नी और भारतीय जनता पार्टी नेह्लनिेह्र्लाचित ेिह्लधायक नेह्लजोत कौर सिद्धू जल्द ही सीपीएस बनेंगी। प्रकाश सिंह बादल भाजपा के तीन विधायकों को पंजाब सरकार में चीफ पार्लियामेंट्री सेक्रेटरी (सीपीएस) बनाने जा रही है। भाजपा के सुजानपुर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव जीते दिनेश ठाकुर बब्बू, जालंधर नॉर्थ के विधायक कृष्ण देव भंडारी और अमृतसर ईस्ट से चुनाव जीती डॉ. नवजोत कौर को सीपीएस बनाया जाएगा। इनमें से नवजोत कौर भाजपा के राष्ट्रीय सचिव व अमृतसर के सांसद नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी है जोकि पहली बार चुनाव जीतकर विधानसभा में पहुंची हैं।
पंजाब मंत्रिमंडल में भाजपा के चार विधायकों को पहले ही मंत्री बनाया जा चुका है। इसके अलावा एक विधायक को पंजाब विधानसभा का डिप्टी स्पीकर नियुक्त किया जाएगा। भाजपा के जालंधर वेस्ट से विधायक भगत चुन्नी लाल, आनंदपुर साहिब से विधायक मदन मोहन मित्तल, फाजिल्का से विधायक सुरजीत ज्याणी, अमृतसर नॉर्थ से विधायक अनिल जोशी को पहले ही कैबिनेट मंत्री नियुक्त किया जा चुका है।